ATM का Full Form क्या है? ATM Full Form in Hindi

नमस्कार दोस्तों, आज की हमारी इस पोस्ट के माध्यम से हम जानने वाले है ATM का Full Form क्या है? और इससे सम्बंधित कुछ रोचक और महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में विस्तार से।

अगर आपका किसी बैंक में अकाउंट खुला हुआ है तो आप ATM Machine का भी इस्तेमाल जरूर करते होंगे लेकिन बहुत से लोग एटीएम का इस्तेमाल तो करते है लेकिन उन्हें पता भी नहीं होता है की एटीएम का मतलब क्या होता है?

अक्सर बहुत सी प्रतियोगी परीक्षाओं में भी एटीएम का पूरा नाम पूछा जाता है लेकिन बहुत से लोग इसका सही जवाब नहीं दे पाते है क्योकि उन्हें इस चीज की जानकारी नहीं होती है।

इसी कारण बहुत से लोगो के मन में एटीएम से सम्बंधित जानने की जिज्ञासा होती है और अगर आप भी इसी जिज्ञासा के साथ इस पोस्ट पर आये है तो आपको इस पोस्ट में पूरी जानकरी मिलने वाली है।

इसलिए इस पोस्ट को अंत तक ध्यानपूर्वक पूरा जरूर पढ़े जिससे आपको एटीएम और इसकी फुल फॉर्म सम्बंधित पूरी जानकारी विस्तार से मिल सके। तो चलिए अब जानते है ATM का Full Form in Hindi.

ATM का Full Form क्या है

अगर आपको नहीं पता ATM का Full Form क्या होता है तो आपको बता दे बता दे ATM का Full Name Automatic Teller Machine होता है।

  • A – Automatic (स्वचालित)
  • T – Teller (टेलर)
  • M – Machine (मशीन)

इस प्रकार एटीएम का फुल फॉर्म हिंदी में स्वचालित टेलर मशीन होता है। बहुत से लोग ATM का मतलब Any Time Money समझते है लेकिन आपको बता दे ATM का मतलब Automatic Teller Machine ही होता है।

ATM क्या है? (What is ATM in Hindi)

ATM का Full Form क्या है

ATM एक Electronic Machine है जिसकी मदद से आप Automatic तरीके से अपने किसी भी बैंक से वित्तीय लेनदेन कर सकते है जैसे पैसे निकालना या जमा करना, फण्ड ट्रांसफर करना आदि।

इन सभी कामो को आप ATM Machine की मदद से कर सकते है और आपको किसी बैंक कर्मचारी की जरुरत भी नहीं होती है। इसके अलावा आप ATM मशीन की मदद से अपना पिन चेंज कर सकते है, शेष राशी देख सकते है, मिनिस्टटमेंट आदि।

ATM Machine दो तरह के हो सकते है जिसमे पहला जिसकी मदद से आप नकदी निकाल सकते है दूसरी वह जिसमे आप नकदी निकालने के साथ साथ जमा भी कर सकते है।

इस मशीन से पैसे निकालने के लिए आपको एक विशेष प्रकार के कार्ड की आवश्यकता होती है जिसे ATM Card या Debit Card कहा जा है। अगर आपके पास Credit Card है तो आप आप इसकी मदद से भी पैसे निकाल सकते है।

ATM कैसे काम करता है

एटीएम आपके पास उपलब्ध एटीएम कार्ड के अनुसार कार्य करता है। आपको सबसे पहले एटीएम में अपना एटीएम कार्ड या डेबिट कार्ड Insert करना होगा।

कुछ एटीएम मशीन में कार्ड केवल स्वाइप करना होता है लेकिन कुछ एटीएम मशीन में कार्ड को ड्राप करना होता है और लेनदेन के पूरा होने के बाद ही उसे निकाल सकते है।

कार्ड इन्सर्ट करने के बाद आपको स्क्रीन पर बहुत से विकल्प मिलते है जिनके मदद से आप आप अपने काम के अनुसार विकल्प का चुनाव कर सकते है उसके बाद आपको अपना पिन नंबर दर्ज करना होता है।

जब आप अपना सही सही पिन दर्ज कर देते है तो उसके बाद आप एटीएम से ट्रांसेक्शन कर सकते है यानि नकद जमा या निकाल सकते है या Balance Check कर सकते है।

इसके अलावा आपकी जानकारी के लिए बतादे ATM Bank के सर्वर से कनेक्टेड होता हैं, जब आप एटीएम में अपना Debit कार्ड लगाते हैं तो आपके कार्ड की डिटेल के अनुसार आपके बैंक में एक Request जाती हैं, जिससे बैंक कन्फर्म करने के बाद आपके ट्रांसैक्शन को Allow करता हैं और यह प्रोसेस कुछ ही सेकण्ड्स में पूरा हो जाता हैं।

ATM के प्रमुख कार्य क्या क्या है

बहुत से लोग केवल एटीएम का इस्तेमाल पैसे निकालने के लिए ही करते है लेकिन एटीएम के इसके अलावा भी बहुत कार्य है जिनके बारे में नीचे बताया गया है।

  1. एटीएम में पैसे जमा किये जा सकते है और जमा राशि की रसीद प्राप्त कर सकते है।
  2. एटीएम से पैसे निकाले जा सकते है और शेष राशी की रसीद प्राप्त की जा सकती है।
  3. अपने डेबिट कार्ड का पिन चेंज किया जा सकता है।
  4. एटीएम मशीन की मदद से आप अपने अकाउंट का मिनिस्टटमेंट प्राप्त कर सकते है।
  5. आप अपने अकाउंट का शेष बैलेंस एटीएम की मदद से चेक कर सकते है।
  6. एटीएम की मदद से आप किसी दूसरे अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर सकते है।

इस प्रकार एटीएम को केवल पैसे निकालने के लिए ही इस्तेमाल नहीं किया जाता है इसके और भी बहुत से कार्य है। तो चलिए अब एक नज़र इसके फायदों पर डालते है।

ATM के लाभ

एटीएम के लाभों के बारे में आप निम्न्लिखित बिंदुओं के माध्यम से समझ सकते है लेकिन आपको बता दे यह लाभ लेने के लिए आपके पास एटीएम कार्ड या डेबिट कार्ड का होना आवश्यक है।

अगर आपके पास डेबिट कार्ड नहीं है तो जिस भी बैंक में आपका अकाउंट है उस बैंक में जाकर एटीएम का फॉर्म भरे और डेबिट कार्ड बनवा ले ताकि आप इसके लाभ ले सके।

  • एटीएम की मदद से आप कभी भी किसी भी एटीएम से पैसे निकाल सकते है।
  • एटीएम 24*7 खुले रहते है जिससे आप कभी भी इनसे लेनदेन कर सकते है।
  • पहले पैसो की निकासी और जमा करने के लिए बड़ी बड़ी लाइन में लगना पड़ता था
  • लेकिन अब आप आसानी से एटीएम की मदद से पैसे जमा कर और निकाल सकते है।
  • एटीएम के इस्तेमाल करने के लिए आपको किसी कर्मचारी की मदद की भी जरुरत नहीं होती है।
  • पैसे निकालने या जमा करने के लिए पर्ची भरने की आवश्यकता नहीं होती है।
  • एटीएम की मदद से आप बैंक की तुलना में जल्दी पैसे की निकासी या जमा कर सकते है।

इस प्रकार एटीएम से आपको बहुत से लाभ है लेकिन इसके कुछ नुकसान भी है तो चलिए उन्हें भी जान लेते है।

ATM के नुकसान

हर चीज के दो पहलु होते है तो उसी प्रकार एटीएम के भी लाभ के साथ-साथ कुछ नुकसान भी होते है जिनके बारे में निचे बताया गया है।

  • एटीएम के इस्तेमाल से ग्राहक अपने बैंक कर्मचारियों के साथ व्यक्तिगत संपर्क खो देते है।
  • एटीएम मशीन हैक होने के दौरान आपका बैंक विवरण चुराया जा सकता है।
  • एटीएम की मदद से आप सीमित मात्रा में ही पैसो की निकासी कर सकते है।
  • अगर आपका एटीएम कार्ड गुम हो जाता है तो इसका दुरूपयोग हो सकता है।
  • अशिक्षित लोगो के लिए इसका इस्तेमाल करना थोड़ा कठिन होता है।
  • किसी किसी बैंक में एटीएम इस्तेमाल करने पर लगने वाला शुल्क अधिक हो सकता है।
  • एटीएम का सर्वर कभी कभी डाउन हो सकता है जिससे आपको लेनदेन में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

इस प्रकार आप एटीएम के नुकसानों को उपरोक्त बिंदुओं के माध्यम से समझ गया होंगे। लेकिन इसके फायदों को ध्यान में रखते हुए आप चाहे तो एटीएम का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Atm से सम्बंधित कुछ रोचक तथ्य

अब हम एटीएम से सम्बंधित कुछ रोचक जानकारी प्राप्त कर लेते है जो शायद आपको पहले नहीं पता हो।

  1. ATM का आविष्कार जॉन शेफर्ड बैरोन ने किया था।
  2. 27 जून 1967 को लंदन के Barclays Bank में दुनिया का पहला एटीएम स्थपित किया गया था।
  3. ब्राज़ील देश में Biometric ATM का इस्तेमाल किया जाता है।
  4. यानि इसका इस्तेमाल करने के लिए User को अपना फिंगर स्कैन करना आवश्यक है।
  5. दुनिया का पहला Floating ATM स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (केरल) में स्थापित किया गया था।
  6. भारत में पहला एटीएम सं 1987 में हांगकांग और शंघाई बैंकिंग कॉर्पोरेशन (HSBN) द्वारा स्थापित किया गया था।

FAQ

ATM का आविष्कार किसने किया?

ATM के आविष्कारक जॉन शेफर्ड बैरोन है।

एटीएम के आविष्कार का असली श्रेय किसे दिया जाता है?

एटीएम के आविष्कार का श्रेय Luther George Simjian नाम के एक अमेरिकी नागरिक को दिया जाता है।

एटीएम का हिंदी नाम क्या है?

एटीएम का हिंदी नाम स्वचालित टेलर मशीन है।

ATM Full Form in Banking?

ATM का बैंकिंग में फुलफॉर्म Automatic Teller Machine होता है।

PIN Full Form in ATM (Pin का फुल फॉर्म क्या होता है?)

PIN का पूरा नाम Personal Identification Number होता है। यह एक Security Code होता है जो हमारे एटीएम का दुरूपयोग होने से बचाता है।

Conclusion –

उम्मीद करते है आपको हमारी यह पोस्ट ATM का Full Form क्या है जरूर पसंद आयी होगी और इस पोस्ट में हमारे द्वारा साझा जानकारी आपके लिए उपयोगी रही होगी।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आयी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे और साथ ही अगर आपको हमारी इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी Doubts है तो हमे कमेंट करके जरूर बताये।

Related Articles:-

Leave a Comment